+91 7860645834 priyanka@updeledportal.in

Applied For D.El.Ed. ?
Search your Dream College

UP D.El.Ed. 18 डायरेक्ट एडमिशन की पात्रता चेक करेंCheck

Admissions are closed !

डायरेक्ट एडमिशन के लिए अप्लाई करें

 
 

FAQ's About Minority Colleges

डी.एल.एड. कोर्स में माइनॉरिटी(अल्पसंख्यक) कॉलेज के पास ५०% काउंसलिंग से और ५०% डायरेक्ट एडमिशन लेने की स्वीकृति होती है. जो काउंसलिंग में एडमिशन का प्रोसेस होता है वैसे ही इन कॉलेज में भी होता है. माइनॉरिटी(अल्पसंख्यक) कॉलेज में कोई भी और किसी भी श्रेणी का स्टूडेंट एडमिशन ले सकता है।
यदि आपने D.El.Ed. UP 2018-19 फॉर्म भी नहीं भरा तो भी आप माइनॉरिटी कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं

इस बार अभियार्थी के पास दोबारा काउंसलिंग कराने का कोई विकल्प नहीं है अगर उसे कॉलेज आवंटन हो गया है। ऐसे अभियार्थी केवल माइनॉरिटी(अल्पसंख्यक) कॉलेज में डायरेक्ट एडमिशन के ही पात्र हैं।

नहीं। जब आपको सर्टिफिकेट मिलता है तो उसमे कहीं विवरण नहीं होता है की आपने किस सीट पर दाखिला (एडमिशन) लिया है। सारी सुविधाएँ जैसे की स्कालरशिप आदि आप को काउन्सलिंग के स्टूडेंट्स की तरह ही मिलती हैं, और वेकन्सी के लिए अप्लाई करने में भी कोई अंतर नहीं होता|

Welcome to UP D.El.Ed Portal

" Empowring students to make the Right college decision

D.El.Ed. 2018-19 Colleges by District

Get Free Consultation

Get in touch with our team, we provide you with information and opportunity about Admissions in D.El.Ed. Colleges

A few reasons you will want to Apply for Consultation

  • Admission Assistance

    We provide with admission assistance, College Info required for confidence in admission process.

  • Minority College Admissions

    Apply for your favorite Minority College. We will help you in getting you in touch with them

  • Connect To Colleges

    Connect to many colleges by single click

Free consultation!

The U.P. D.El.Ed Portal is a mission-driven product that connects students to college, success and opportunity. BTCPortal is created to server need for students to have access to informaiton for B.Ed, B.El.Ed., D.Ed colleges in Uttar Pradesh. It is intended to improve Quality of educators and Colleges. Also will increase transparency for the institute and will increase confidence in taking courses offered by such institutions.